टाइफाइड का इलाज -Typhoid ka gharelu ilaj in hindi

1
174

टाइफाइड का इलाज -Typhoid ka gharelu ilaj in hindi

Typhoid ka gharelu ilaj – स्वास्थ के लिए टाइफाइड सबसे बड़ा ख़तरा है. टाइफाइड को मोतीझरा या मियादी बुखार भी कहते है. टाइफाइड गंदगी और दूषित चीजे खाने की वजह से होता है. टाइफाइड का समय पर इलाज होना बहुत ही जरुरी होता है. अगर समय पर टाइफाइड का इलाज नहीं हुआ तो आतों में खून के रिसाव का खतरा बढ़ जाता है. टाइफाइड बुखार की वजह से ही निमोनिया और दिमागी बुखार आने का खतरा रहता है. टाइफाइड में तेज बुखार आता है. बुखार में पूरा शरीर मानो तपने लगता है. ये बुखार दवाई खाने से कम तो हो जाता है लेकिन जैसे ही दवाई का असर कम होता है बैसे ही दोबारा बुखार आ जाता है. टाइफाइड बुखार आने का खतरा बारिश के मौसम में ज्यादा रहता है. क्योकि बारिश के मौसम में बारिश होने की वजह से गंदगी ज्यादा रहती है दूषित पानी जमा हो जाता है. जिस वजह से टाइफाइड हो जाता है. “Typhoid ka gharelu ilaj in hindi”

Typhoid ka gharelu ilaj
Typhoid ka gharelu ilaj

टाइफाइड के लक्षण / Typhoid symptoms in hindi:

टाइफाइड के कुछ प्रमुख लक्षण है लोगो में यह लक्षण 4-5 दिन में देखने को मिल जायेंगे. लेकिन कुछ लोगो में यह लक्षण 1-2 हफ्ते में दिखते है. टाइफाइड के लक्षण को समय से पहचान कर इसका इलाज करना बहुत ही जरुरी होता है.

  • कपकपी के साथ, तेज बुखार आना
  • भूख बहुत ही कम लगना
  • गले का खराब होना, सिर में दर्द होना
  • पसीना आना
  • दस्त, उल्टी और पेट में दर्द होना
  • शरीर में दर्द होना
  • धीमा बुखार हर समय रहना
  • हफ्ते तक बुखार रहना और फिर बुखार बने रहना
    ये सभी टाइफाइड के लक्षण है ऐसे अगर कोई भी लक्षण देखने को मिले तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. और टाइफाइड का इलाज समय पर करें.

सर्दी, जुकाम और खांसी के घरेलू उपचार

8 दिन में मोटापा कम करने के घरेलु उपाय

लीवर की कमजोरी को दूर करने के उपाय – लीवर की बीमारी का इलाज

टाइफाइड होने का कारण / Typhoid reasons:

  • सामान्य बुखार होने पर उसका इलाज जल्दी नहीं करने से
  • रहने की जगह पर साफ सफाई ना रखने से
  • सर्दी खांसी जुकाम का इलाज समय से ना करने से
  • किसी बीमार व्यक्ति के साथ खाना खाने और पानी पीने से
  • बासी खाना खाने से
  • बाहर घूमते समय दूषित पानी पीने से

टाइफाइड से बचने का तरीका / Typhoid treatment: 

  • टाइफाइड के लक्षण और कारण जान लेने के बाद, इससे कैसे बचे ये जानना बहुत ही जरुरी है.
  • खाना खाने से पहले हाथों को अच्छे से साफ़ कर लें.
  • बुखार आने पर उसके इलाज में ज़रा भी देरी ना करें
  • सर्दी जुकाम होने पर भी इसका इलाज जल्दी करें यह कहकर ना ताल दें कि खुद ही ठीक हो जायेगा.
  • तेज बुखार होने पर मरीज के माथे पर ठन्डे पानी का कपड़ा भिगोकर रखें. इससे दिमागी बुखार की संभावना समाप्त हो जाती है.
  • मरीज का झूठा खाना या पानी ना पिए.
  • पानी ज्यादा से ज्यादा पिये लेकिन पानी को उबाल ले. गर्म पानी पीने से बुखार में राहत मिलती है.
    इन बातों का अच्छे से ध्यान रखे और किसी भी तरह का लक्षण देखने को मिले तो उसका तुरंत इलाज करायें.

Typhoid ka gharelu ilaj –  टाइफाइड के इलाज के घरेलु उपाय और नुस्खे / Typhoid treatment in hindi:

  • अदरक और तुलसी के चाय टाइफाइड में रहत का काम करती है. इस चाय में अदरक, तुलसी के पत्ते, कलि मिर्च और दालचीनी को पानी में डालकर पानी को अच्छे से उबाले. जब पानी की मात्रा कम हो जाये तब इसको ठंडा होने पर ऐसे ही पी ले. अगर इसका स्वाद पीने लायक नहीं है तब इसमें थोड़ी सी मिश्री भी मिला सकते हैं.
    पुदीना और अदरक को अच्छे से पीसकर इसका घोल बना लें अब इस घोल को दिन में दो से तीन बार पिए इससे टाइफाइड बुखार कम होता है.
    शहद और केला भी टाइफाइड के लिए बहुत ही लाभकारी होते है. पका केला पीसकर उसमे एक चम्मच शहद भी मिला अब इसको खाएं ये बुखार के लिए लाभकारी होगा.
  • लहसुन का इस्तेमाल सर्दी और जुकाम के लिए किया जाता रहा है. लहसुन एक एंटीबायोटिक है. जो बुखार और खांसी के लिए लाभकारी है. लहसुन की 5-6 कलियाँ पीसकर उसमे घी में मिला ले अब इसमें हल्का सा सैंधा नमक मिला लें. इसके सेवन से बुखार समाप्त हो जाएगा.
    अमरुद के पत्ते भी टाइफाइड के लिए बहुत ही लाभकारी होते है. अमरुद में बहुत से औषधीय गुण होते हैं. जो बहुत सी बीमारियों में लाभकारी सिद्ध होते हैं. खांसी, सर्दी, गले की खराश आदि के लिए अमरुद और अमरुद के पत्ते दोनों ही लाभकारी है. अमरुद में विटामिन सी और आयरन पाया जाता है जो बुखार के लिए बहुत ही लाभकारी होता है.
  • अमरुद के 6-7 फूल, एक कप बकरी का ताजा दूध इन दोनों के प्रयोग से टाइफाइड का इलाज कर है. इसे तैयार करने के लिए अमरुद के फूलो को साफ़ करके बारीक पीस ले. अब पीसे हुए फूलो को एक बर्तन में रख ले अब इसमें एक कप बकरी का ताजा दूध मिला ले. अब इन दोनों के अच्छे से मिक्स कर ले. अब यह तैयार है. अब आप इसका सेवन तुरंत करें इसे रखा ना रहने दे. इसका सेवन हमेशा खाली पेट करना करना है. यह टाइफाइड के लिए बहुत ही जरुरी है इसका उपयोग दिन में दो से तीन बार करें. और कम से कम एक हफ्ते तक सेवन करें.

टाइफाइड बुखार के टिप्स / Typhoid home remedies:

  • बुखार आने पर इलाज तुरंत कराये
  • साफ़ पानी पिये हो सके तो पानी को उबाल कर पिये
  • दिन में दो बार नींबू और शहद को एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर पिये
  • मीठी चीजे खाने से परहेज करें
  • हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करें
  • खाने पीने का बिशेष ध्यान रखें
  • दूध और मेवाओ का सेवन कम से कम करें
  • बुखार में आराम ना मिलने पर दोबारा खून और पेशाब की जाँच करायें
  • शराब और सिगरेट से परहेज करें.
  • डॉक्टर द्वारा दी गयी सभी दवाई का सेवन समय से करें
    दवाइयों का सेवन बुखार ख़त्म होने तक करे ऐसा ना करें कि बुखार कम हुआ और दवाई बंद.
    टाइफाइड में आप इन बातों का बिशेष ध्यान रखें, ये आपके स्वास्थ के लिए बहुत ही जरुरी है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.