Putra Prapti Ke Upay, Putra Prapti Ke Liye Kya Kare

0
Putra Prapti Ke Upay

Putra Prapti Ke Upay, Putra Prapti Ke Liye Kya Kare

पुत्र प्राप्ति के उपाय – पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करें
आज भी लोगों का यही मानना है कि पुत्र ही कुल का दीपक होता है. उन्हें ऐसा लगता है कि विना पुत्र के उनका वंश मिट जाएगा. लोगों को वंश चलाने के लिए पुत्र का ही होना जरुरी है. लोग इसी चाह में कई बच्चे पैदा कर लेते हैं. लोगों का कहना हैं कि एक पुत्र जरुरी है. किसी किसी को पहली बार में ही पुत्र हो जाता है तो किसी को 3 बार में भी नहीं. लोग इसी धारणा की साथ मानते है कि तीन बच्चे पैदा करने के बाद माँ की कोक बदल जाती है. अगर किसी महिला को पहली 3 लडकियां हुई हैं तो उसको चौथा लड़का ही होगा. लेकिन कहीं ना कहीं लोगों की यह धारणा गलत साबित होती जाती है. और उन्हें सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है. कोई पुत्र प्राप्ति के लिए व्रत रखता है तो कोई पुत्र प्राप्ति के मंत्र जपता है और कोई पुत्र प्राप्ति के स्तोत्र का पाठ करता है. आस्था रखना या विश्वास करना ग़लत नहीं है लेकिन अंधविश्वास कभी कभार व्यक्ति को पागल कर देता है जिससे वह अपराध कर बैठता है. लेकिन यह सोच गलत है की पुत्र ही सब कुछ है सिर्फ लड़के ही कुल का दीपक बन सकते है लड़की नहीं. लेकिन आज को देखते हुए लडकियां लड़कों से कहीं आगे निकल चुकी हैं. यहाँ जो पुत्र प्राप्ति के लिए उपाय मिलेंगे वह सिर्फ जानकारी हेतु है. “Putra Prapti Ke Upay”

putra prapti ke tarikeपुत्र प्राप्ति के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी: Putra prapti ke tarike
पुत्र का होना पुरुष पर ही निर्भर करता है. क्योकि स्त्री में xx क्रोमोसोम होते हैं.और पुरुष में xy. सम्भोग के समय अगर स्त्री का x क्रोमोसोम और पुरुष का y क्रोमोसोम मिले तभी पुत्र प्राप्त होगा. अगर स्त्री का x क्रोमोसोम और पुरुष का भी x क्रोमोसोम मिले तो लड़की पैदा होगी. तो समझ सकते है की पुत्र का ना पैदा होने का कारण पुरुष ही है.
बच्चे के पैदा होने के लिए पीरियड के बाद सम्भोग करने का समय ही निर्भर करता है कि लड़की पैदा होगी या लड़का. पीरियड के चौथे, आठवें, दसवें, 12 वें और 14 वें रात को सम्भोग करने से ठहरने वाले गर्भधारण से पुत्र होने की संभावना ज्यादा रहती है. अगर आप भी पुत्र की चाह रखते है तो इस प्रयास को करके पुत्र की प्राप्ति कर सकते हैं. पीरियड के चौथे, आठवें, दसवें, 12 वें और 14 वें रात को कम से कम दो से तीन बार सम्भोग करें जिससे पुरुष के y क्रोमोसोम की संख्या ज्यादा हो जाये. ऐसा करने से पुत्र की प्राप्ति संभव है.”Putra Prapti Ke Upay”

Read Also: रिश्तों को मजबूत बनाने के टिप्स 

Read Also: खुश रहने के 7 तरीके 

पुत्र प्राप्ति के लिए उपाय: Putra Prapti Ke Upay
1. सम्भोग करते समय बिना किसी शारीरिक तनाव और मानसिक तनाव के सम्भोग करें.
2. पुत्र की प्राप्ति के लिए खान पान का विशेष ध्यान ध्यान रखना जरुर है.
पुरुष को खाने में दूध दही, मावा, रबड़ी, घी आदि का सेवन करना चाहिए. ये पुरुष के लिए लाभकारी होते हैं. पुरुष को खट्टी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए.
3. स्त्री को भी खट्टी चीजों का ज्यादा सेवन करना चाहिए साथ ही साथ खीरा,ककड़ी,मुली,गाजर,शलजम,अचार,नींबू,हरी मिर्च का सेवन करना चाहिए.
ये पुत्र की प्राप्ति के लिए लाभकारी सिद्ध होते हैं.
4. सूरजमुखी के बीज खाने से पुत्र होने की संभावना ज्यादा रहती है. सूरजमुखी के बीज में विटामिन इ की मात्रा ज्यादा होती है जो स्पर्म को बढ़ाने में ज्यादा लाभकारी है. इसके बीजो से पुत्र बनने वाले शुक्राणु ज्यादा बनते हैं. इसलिए पुत्र की प्राप्ति के लिए सूरजमुखी के बीजों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें.
5. पुराने समय से ये माना जाता रहा है. कि पीरियड के चौथे, आठवें, दसवें, 12 वें, 14 वें और 16 वे रात को सम्भोग करने से ठहरने वाले गर्भधारण से पुत्र होने की संभावना ज्यादा रहती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here