FIR Kaise Likhe FIR Full Form | FIR के बारे में जानकारी

0
222
fir kaise likhe fir full form

FIR Kaise Likhe Fir Full Form – FIR कैसे लिखवाते हैं?

उत्तर प्रदेश में पुलिस की भर्तियाँ निकली हुई है या फिर आप किसी भी राज्य में पुलिस में भर्ती होना चाहते हैं तो आपको FIR के बारे में जरुर पता होना चाहिए. FIR Kya Hai, FIR Kaise Likhe Fir Full Form.

आज के समय में लड़ाई झगड़ा बहुत ज्यादा बढ़ गया है, आये दिन बलात्कार की खबर, पैसे चोरी की खबर तो कहीं हत्या का मामला सामने आ ही जाता है. ऐसे ही एक ही काम होता है और वो है FIR. किसी भी व्यक्ति को थोड़ी भी परेशानी होती है तो वह पुलिस स्टेशन जाकर FIR लिखवा आता है. लेकिन कभी कभी FIR की वजह से वेगुनाह और शरीफ लोगों को भी परेशानी हो जाती है. आइये जानते है FIR के बारे में. FIR Kaise Likhe Fir Full Form.

FIR Kaise Likhe Fir Full Form

FIR क्या होता है?

किसी भी परेशानी में जो बड़ी हो जैसे चोरी होने पर, या किसी से लड़ाई या झगड़ा होने पर हम पुलिस स्टेशन जाकर जो रिपोर्ट दर्ज कराते है. उसे FIR कहते हैं.

FIR Full Form

FIR Kaise Likhe Fir Full Form, FIR का पूरा नाम या फुल फॉर्म First Information Report (FIR) है. पुलिस को जब भी किसी अपराध की होने की खबर मिलती है तो पुलिस के द्वारा एक लिखित दस्तावेज (Documents) तैयार किया जाता है. इसी Documents के Basis पर ही पुलिस अपनी आगे की कार्यवाही करती है.

जिस व्यक्ति ने भी FIR दर्ज करायी है उसका हक़ होता है कि उसे उसके द्वारा लिखाई गयी FIR या रिपोर्ट को उसे पढ़कर सुनाया जाये. और उस FIR की एक COPY भी उस व्यक्ति को दी जानी चाहिए. FIR के बाद पुलिस अपनी करवाई तेजी से करते हैं और आरोपी को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जाती है. FIR कॉपी पर शिकायत कर्ता के हस्ताक्षर होना अनिवार्य है. इस FIR कॉपी को शिकायत करता के पास होना जरुरी है.

How to Write FIR in Hindi

किसी भी अपराध में आप FIR करने के हकदार हैं. कोई अपराध हुआ है तो उस अपराध की आप FIR कराना चाहते हैं तो, आपको उसके लिए अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन यानी ठाणे जाना होगा. ठाणे जाने पर आप पुलिस कर्मी द्वारा अपनी FIR दर्ज करा सकते हैं. पुलिस कर्मी आपसे कुछ सवाल पूछेगा, जिनका आपको जबाव देना है उसी के आधार पर आपकी FIR दर्ज कर ली जाएगी. FIR लिखने का कोई पैसा नहीं जाता है. ये बिलकुल निशुल्क है.

FIR सिर्फ किसी अपराध के लिए ही नहीं, बल्कि आप मोबाइल चोरी हो जाने पर, सिम कार्ड को खो जाने पर, डाक्यूमेंट्स चोरी हो जाने या गिर जाने पर आदि के लिए भी कर सकते हैं.

FIR लिखवाते समय आपसे क्या क्या पूछा जाता है-

किसी अपराध की करवाई के लिए FIR लिखवाते समय आपसे बहुत से सवाल किये जायेंगे जिनका जबाब आपको देना अनिवार्य होता है. जैसे आपका सामान मोबाइल या कुछ भी कब खोया, कितने बजे खोया, कहाँ पर खोया या आप कहाँ थे आदि.

किसी व्यक्ति पर अपराध का संदेह होने पर भी FIR दर्ज कराई जा सकती है. जैसे आप किसके खिलाफ FIR दर्ज कराना चाहते है. क्या आप अपराधी को जानते हैं. अपराध होने का समय, अपराध होने की जगह, अपराधी के खिलाफ आपके पास कोई सबूत. अपराधी को आप पहचान सकते है या नहीं, आदि सवाल पूछे जाते हैं.
इन सवालों के आधार पर ही पुलिसकर्मी आपकी शिकायत (FIR) दर्ज करते हैं. जिसकी एक कॉपी आपको दे दी जाती है.

पुलिस द्वारा FIR लिखने से मना करने पर –

कभी कभी ऐसा देखने को मिल जाता है कि कुछ पुलिस अधिकारी FIR दर्ज करने से मना कर देते हैं. उसमे आम आदमी परेशान होता रहता है. कभी कभी तो इस परिस्थिति में हादसा भी हो जाता है. अगर आपकी भी ऐसी कोई समस्या है या कोई पुलिस अधिकारी FIR दर्ज करने से मना कर रहा है तो आप उस अधिकारी की शिकायत किसी अन्य बड़े अधिकारी से कर सकते हैं.

FIR दर्ज करने से मना करने पर आप उस पुलिस अधिकारी की शिकायत डाक के द्वारा भी क्षेत्रीय पुलिस उपायुक्त को कर सकते हैं. यदि आप ऐसा करने में भी सक्षम नहीं हैं तो आप जिला मजिस्ट्रेट के पास जाकर पुलिस द्वारा काम ना करने की शिकायत कर सकते हैं. इससे आपकी शिकायत पर जल्दी ही सुनवाई सुरु हो जायेगी.
अपराध चाहे छोटा हो या बड़ा, आम आदमी करें या कोई अधिकारी अपराध अपराध ही होता है.

Online FIR Kaise Kare

OnLine FIR

How to Write Online Fir in Hindi, इन्टरनेट के इस दौर में सभी कार्य आसान और तेजी से किये जा सकते हैं. ऐसी ही FIR करने को भी आसान और ऑनलाइन बनाया जा चुका है.

किसी भी अपराध में आप घर बैठे ही FIR दर्ज करा सकते हैं. अब आपको कहीं जाने की जरुरत नहीं हैं. ऑनलाइन FIR सुविधा के माध्यम से आप किसी भी अपराध की रिपोर्ट कर सकते हैं. ऑनलाइन FIR करते समय आपको अपने बारे में सभी जानकारी देनी होती है. जैसे आप कहाँ रहते हैं. Email ID और मोबाइल नंबर आदि. शिकायत के 24 घंटों के अन्दर ही पुलिस अधिकारी की कॉल आती है जिसमे आपका मोबाइल नंबर और ईमेल ID पूछी जाती है. आपकी FIR के बाद पुलिस अधिकारी अपनी कार्यवाई सुरु कर देते हैं. ऑनलाइन FIR को सुप्रीम कोर्ट ने अनिवार्य करने का फैसला किया है. FIR करने के बाद जल्द से जल्द उस केस को निवटाने का भी आदेश दिया है.
कार्यवाही के दौरान ये सुनिश्चित किया जाता है कि मामला कितना गंभीर है या कोई फर्जी FIR तो नहीं.

महत्वपूर्ण बातें-

  • किसी भी घटना या कोई भी अपराध होने पर पुलिस स्टेशन में FIR जरुर करवायें.
  • जब भी आप FIR लिखवायें उसे एक बार खुद पड़ें या पड़ने के लिए बोले, जब आपको सबकुछ ठीक लगे तभी उस पर हस्ताक्षर करें.
  • FIR लिखने के बाद उस FIR की एक फोटो कॉपी अपने लिए जरुर लें. ये आपका अधिकार है.
  • FIR लिखवाते समय यदि कोई अधिकारी आपकी FIR नहीं लिख रहा या लिखने में लापरवाही कर रहा हो तो आप उस अधिकारी की शिकायत सीनियर अधिकारी से कर सकते हैं.
  • जब आप किसी अपराध की FIR कराते हैं, तो FIR लिखवाने का कोई पैसा या रूपये नहीं लगते हैं. ये बिल्कुल निशुल्क है. अगर कोई अधिकारी FIR के लिए पैसो की मांग करता है तो आप उस अधिकारी की शिकायत वरिष्ट अधिकारी से कर सकते हैं.
  • अनजान व्यक्ति कभी कभी FIR के पैसे दे आते हैं लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए. FIR लिखवाने का कोई खर्च नहीं होता है.

FIR Kaise Likhe Fir Full Form आप इस बारे में अच्छे से जान गए होंगे. FIR आपका अधिकार है. किसी भी अपराध में आप FIR कर सकते हैं. अगर किसी बात पर आपको संदेह है तो आप हमसे कमेंट्स में पूछ सकते हैं. इस पोस्ट को शेयर जरुर करें. और फेसबुक पेज को भी लाइक करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here